लोकसभा चुनाव: उत्तराखंड में पहले चरण में 11 अप्रैल को होंगे चुनाव, 23 मई को होगी मतगणना

नई दिल्ली: आम चुनावों की घोषणा का इंतजार शनिवार को खत्म हो गया. मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने विज्ञान भवन में की गई प्रेस कांफ्रेंस ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का एलान किया. चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही आज से आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है. मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि आचार संहिता तोड़ने पर सख्त कार्रवाई होगी. इसका मतलब है कि सरकार अब कोई घोषणा-उद्घाटन नहीं कर सकती. प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा, चुनाव आयुक्त अशोक लवासा और दूसरे चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र मौजूद रहे.


मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि इस बार लोकसभा चुनाव के सात चरण में वोट डाले जाएंगे. मतदान 11 अप्रैल से 19 मई तक होंगे. 23 मई को मतगणना की जाएगी. जिसमें पहले चरण में 22 राज्यों में चुनाव संपन्न होंगे. इस बार 90 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे. CEC के मुताबिक पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले इस बार 8.43 करोड़ मतदाता बढ़े हैं. देश भर में मतदान के लिए 10 लाख बूथ बनाए गए हैं. इस बार ईवीएम मशीनों पर सारे उम्मीदवारों की तस्वीर भी रहेगी. इस बार 1.5 करोड़ युवा पहली बार मतदान करेंगे. इनकी उम्र 18 से 19 साल के बीच है. उन्होंने बताया कि विभिन्न राज्यों के अधिकारियों, राजनीतिक दलों और सुरक्षा एजेंसियों से बातचीत करने के बाद चुनाव कार्यक्रम तैयार किया गया है. अरोड़ा ने कहा कि 3 जून को 16वीं लोकसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है.

चुनाव आयोग ने कहा है कि आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने चुनाव से जुड़ी कई अहम जानकारियां अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में दीं.

ये है लोकसभा चुनाव का पूरा कार्यक्रम

पहला चरण- 11 अप्रैल- 20 राज्यों की 91 सीटों- आंध्र प्रदेश 25, अरुणाचल 2, असम 5, बिहार 4, छत्तीसगढ़ 1, जम्मू-कश्मीर 2, महाराष्ट्र 7, मणिपुर 1, मेघालय 2, मिजोरम 1, नागालैंड 1, ओडिशा 4, सिक्किम 1, तेलंगाना 17, त्रिपुरा 1, उत्तर प्रदेश 8, उत्तराखंड 5, पश्चिम बंगाल 2, अंडमान निकोबार 1 , लक्षद्वीप 1

दूसरा चरण-  असम 5, बिहार 5, छत्तीसगढ़ 3, जम्मू-कश्मीर 2, कर्नाटक 14, महाराष्ट्र 10, मणिपुर 1, ओडिशा 5, तमिलनाडु 39, त्रिपुरा 1, उत्तर प्रदेश 8, पश्चिम बंगाल 3 , पुद्दुचेरी 1

तीसरा चरण-  असम 4, बिहार 5, छत्तीसगढ़ 7 सीटें, गुजरात 26, गोवा 2, जम्मू-कश्मीर 1, कर्नाटक 14, केरल 20, महाराष्ट्र 14, ओडिशा 6, उत्तर प्रदेश 10, पश्चिम बंगाल 5, दादर नागर हवेली 1, दमन दीव 1

चौथा चरण- बिहार 5, जम्मू-कश्मीर 1, झारखंड 3, मध्यप्रदेश 6, महाराष्ट्र 17, ओडिशा 6, राजस्थान 13, उत्तर प्रदेश 13, पश्चिम बंगाल 8

पांचवां चरण- बिहार 5, जम्मू कश्मीर 2, झारखंड 4, मध्यप्रदेश 7, राजस्थान 12, उत्तर प्रदेश 14, पश्चिम बंगाल 7

छठवां चरण-  बिहार 8, हरियाणा 10, झारखंड 4, मध्यप्रदेश 8, उत्तर प्रदेश 14, पश्चिम बंगाल 8, दिल्ली 7

सातवां चरण- बिहार 8, झारखंड 3, मध्यप्रदेश 8, पंजाब 13, चंडीगढ़ 1, पश्चिम बंगाल 9, हिमाचल 4, उत्तर प्रदेश 13

इस बार 90 करोड़ नए मतदाता करेंगे उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला-

इस बार कुल 90 करोड़ नए मतदाता चुनावों में उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे. जिनमें से 1.5 करोड़ मतदाता 18-19 साल के है. इनमें से अधिकांश पहली बार मतदान प्रकिया में भाग लेंगे.

नौकरी पेशा वोटर

1.6 करोड़ मतदाता नौकरी पेशा हैं. टैक्स पेयर होने के चलते इनमें से ज्यादातर देश की आर्थिक गतिविधियों से सीधे प्रभावित होते हैं.

ऐप की मदद से आम नागरिक कर सकेगा किसी भी गड़बड़ी की शिकायत

आम नागरिक एंड्रॉयड एप का इस्तेमाल कर, चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के विडियोज भेज सकेंगे. जानकारी के मुताबिक 100 मिनट के अंदर शिकायत पर क्या कार्रवाई की गई इसका ब्यौरा भी उन्हें भेजा जाएगा. साथ ही उनके प्राइवेसी का भी पूरा ख्याल रखा जाएगा.

पोलिंग बूथ

2014  के चुनाव में नौ लाख मतदान केंद्र थे, इस बार एक लाख बूथ बढ़ाए गए हैं. सभी पार्टियों का  बूथ लेवल मैनेजमेंट पर खासा फोकस होता है.

पहली बार होगा VVPAT मशीन का इस्तेमाल

चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी  देते हुए कहा कि इस बार के चुनाव में पहली बार VVPAT मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा. साथ ही EVM मशीनों की GPS ट्रेकिंग भी की जाएगी.

क्या है VVPAT मशीन ?

वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएची) एक तरह की मशीन होती है., जिसे ईवीएम के साथ जोड़ा जाता है. इसका फायदा यह होता है कि जब कोई भी शख्स ईवीएम का ईस्तेमाल करते अपना वोट देता है तो इस मशीन में वह उस प्रत्याशी का नाम भी देख सकता है. जिसे उसने वोट दिया है.