जिलाधिकारी ने मसूरी की समस्याओं को लेकर अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक, प्रगति नही होने पर लगाई फटकार

Mussoorie: जिलाधिकारी सोनिका सिंह ने मसूरी की समस्याओं व विकास कार्यों को लेकर समीक्षा बैठक की, जिसमें विगत दिनों की गई बैठक में लिए गये निर्णयों की समीक्षा की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने अधिकांश विभागों द्वारा कोई प्रगति न करने पर अधिकारियों को फटकार लगाई व निर्धारित समय के अनुसार कार्य पूरा करने की चेतावनी दी।

एसडीएम सभागार में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी ने नगर पालिका, एमडीडीए, जल निगम, लोक निर्माण विभाग, विद्युत विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की व गत बैठक में लिए गये निर्णयों पर प्रगति न होने पर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारी ज्ञान न दे, बल्कि अपने दायित्वों का निर्वहन करने पर ध्यान दें। बैठक में माल रोड के सौदर्यीकरण, शौचालयों के निर्माण, सड़कों की मरम्मत, बाधा बन रहे विद्युत पोलों को को हटाने, अतिक्रमण पर कार्रवाई करने, विद्युत पोलों पर प्रचार सामग्री हटाने सहित अन्य विषयों पर चर्चा की गई व अधिकारियों से कार्य प्रगति पर जवाब तलब किया गया। उन्होंने लोनिवि, एनएच, एमडीडीए, पेयजल, नगर निगम के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि निर्माण कार्यों से जनमानस को किसी प्रकार की कोई असुविधा न हो साथ ही कार्य के बाद सड़कों का पैचवर्क एवं गड्डे भरने का कार्य यथा समय कर लिया जाए। उन्होंने उप जिलाधिकारी को इन कार्यों की निरंतर माॅनिटरिंग करने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी सोनिका सिंह ने कहा कि मसूरी में चल रहे अधिकतर कार्य नगर पालिका से संबंधित है। अधिशासी अधिकारी को पिछली बैठक में जिन कार्यों को पूरा करने को कहा गया था उनमें जो कार्य नहीं हो पाये, उनको समयबद्ध पूरा करने और सभी समस्याओं का निराकरण करने को कहा है। क्योंकि जनता को पालिका से बड़ी उम्मीदें हैं अगर कार्य नहीं होगा तो लोगों में आक्रोश होगा। उन्होंने कहा कि मालरोड के सौेंदर्यीकरण को लेकर एमडीडीए को कई कार्य करने हैं जिसमें कुछ हो चुके हैं तथा बाकी कार्य प्रगति पर है। उन्हें निर्देश दिए गये हैं कि समय रहते उन कार्यो को पूरा किया जाय। वहीं मसूरी में जिन भवनों को एमडीडीए द्वारा अवासीय में पास किया गया है, उनमे होटल या अन्य व्यावसायिक गतिविधियां होने को लेकर एसडीएम को निर्देशित किया गया है कि वह टीम बना कर सर्वे करें व ताकि उसके बाद इन पर कार्यवाही की जा सकेगी। वहीं एमडीडीए अन्य विभागों के साथ सामंजस्य बना कर विकास कार्यों को गति प्रदान कर सके इसलिए शहर के विकास कार्यो के लिए एमडीडीए को नोडल अधिकारी बनाया गया है, क्योंकि मालरोड के सौंदर्यीकरण के कार्य में अन्य विभागों का भी संबंध है। उन्होंने किंक्रेग पर बन रही दुकानों पर कहा कि इसके लिए एसडीएम व नगर पालिका को कहा गया है कि इस मामले का संज्ञान ले व एनएच व लोकनिर्माण विभाग के साथ मिलकर इसकी जांच कर निस्तारण करें। वहीं मैसानिक लाॅज पाकिंग के लिए उन्होने एक टीम बनाकर निरीक्षण करने का निर्देश दिया है। वहीं बैठक में माल रोड बैरियर को पचास मीटर अंदर करने को लेकर भी चर्चा हुई, जिस पर बैरियर को हटाने के संबंध में सर्वे किया जायेगा उसके बाद जैसा भी संभव होगा, उसी अनुसार निर्णय लिया जायेगा।

जिलाधिकारी सोनिका सिंह ने कहा कि मसूरी के विकास के लिए वह लगातार नजर रखेंगी व संभव हुआ तो हर 15 दिनों में बैठक आयोजित करेंगी। बैठक के बाद उन्होंने खुद मैसानिक लाॅज पार्किग का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता से पार्किंग के बारे में जानकारी ली। वहीं जिलाधिकारी ने सोइल टेस्टिंग को लेकर खड़े हो रहे सवालों पर पालिकाध्यक्ष से जानकारी ली, जिस पर पालिकाध्यक्ष ने जिम्मदारी लेते हुए कहा कि इसकी सोइल टेस्टिंग कराई गई है, इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि वह इस कार्य की मॉनिटरिंग स्वयं कर रहे हैं। अगर इसमें कोई नुकसान होता है, तो वह स्वयं इसकी जिम्मेदारी लेंगे।

बैठक में सचिव एमडीडीए मोहन सिंह बर्निया, एमडीडीए के अधिशासी अभियंता अतुल गुप्ता, लोनिवि के अधिशासी अभियंता डीसी नौटियाल, पेयजल निगम के मुख्य अभियंता सुजीत विकास, विद्युत विभाग के उपखंड अधिकारी पंकज थपलियाल, एनएच के सहायक अभियंता सुरेंद्र सिंह, नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी राजेश नैथानी, नगर अभियंता रमेश बिष्ट, भाजपा मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल, संदीप साहनी, रजत अग्रवाल, जगजीत कुकरेजा, संजय अग्रवाल, विजय रमोला, अरविंद सेमवाल, सतीश ढौडियाल सहित सबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।