मसूरी: उत्तर रेलवे आउट एजेंसी को बंद करने जा रहा रेलवे बोर्ड, जनप्रतिनिधियों कहा- होगा विरोध

Mussoorie: भारत सरकार रेल मंत्रालय के अधीन रेलवे बोर्ड मसूरी में ब्रिटिश काल से संचालित उत्तर रेलवे आउट एजेंसी को बंद करने जा रहा है। इसकी भनक लगते ही स्थानीय लोगों द्वारा विरोध भी शुरू हो गया है। इस संबंध में नगर पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता का कहना है कि इस एजेंसी से स्थानीय लोगों के साथ ही पर्यटकों को रेलवे टिकट की सुविधा मिलती है, इसे बंद करना जनहित में नहीं है। उन्होंने कहा कि मसूरी एक पर्यटक स्थल है, ऐसे में इसके बंद होने से जहाँ पर्यटन पर बुरा असर पड़ेगा, वहीं स्थानीय लोगों को रेलवे टिकट बुक करवाने के लिए देहरादून दौड़ लगानी पड़ेगी, जिससे लोगों के समय व धन की हानि होगी। उन्होंने कहा कि वे रेलवे मंत्रालय भारत सरकार के साथ ही सम्बन्धित एजेंसियों को पत्र लिखकर एजेंसी को बंद न करने का अनुरोध करेंगे।

दरअसल भारत सरकार रेलवे मंत्रालय के रेलवे बोर्ड द्वारा महाप्रबंधक उत्तर रेलवे दिल्ली को एक पत्र जारी कर जारी किया है, जिसमें लिखा गया है कि उत्तर रेलवे के मसूरी स्थित आउट एजेंसी को बंद किया जाय। यह पत्र रेलवे बोर्ड के उप निदेशक बीबी मनजेरा की ओर से जारी किया गया है। रेलवे एजेंसी के इंचार्ज पंकज वर्मा ने बताया कि रेलवे बोर्ड द्वारा एजेंसी को बंद करने का आदेश दिया गया है और एक दो दिन बाद एजेंसी बंद करनी पड़ेगी।

वहीं इसका पता लगते ही स्थानीय लोगों के बीच रेलवे बोर्ड के इस निर्णय का विरोध भी शुरू हो गया है। भाजपा मसूरी मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल ने कहा कि मसूरी स्थित रेलवे आउट एजेंसी को बंद करने का निर्णय जनहित में नहीं है, इसका विरोध किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यह एजेंसी 1942 ब्रिटिश काल से चली आ रही है। जब आने जाने के संसाधन कम होते थे व रेलवे से ही यात्रा की जाती थी, तब से यह सुविधा मसूरी वासियों व पर्यटकों को दी जा रही है, लेकिन अब इसे बंद करना जनहित में नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल को छोड़ कर यह एजेंसी कभी घाटे में नहीं रही और कोरोना के बाद से यह लगातार लाभ वाली एजेंसी रही है। ऐसे में इसे बंद किए जाने का कोई औचित्य नहीं है। उन्होंने इस संबंध में केद्रीय रेलवे मंत्री सहित प्रदेश के कबीना मंत्री गणेश जोशी व डीआरएम मुरादाबाद मंडल को ज्ञापन प्रेषित किया है।

व्यापार संघ मसूरी के अध्यक्ष रजत अग्रवाल ने कहा कि मसूरी में हर साल लाखों पर्यटक आते हैं। पर्यटकों के लिए एजेंसी होने से देशभर में कहीं भी आने जाने के लिए रेलवे टिकट बुकिंग की सुविधा उपलब्ध रहती है। लेकिन इसे बंद कर दिया जाता है, तो इसका पर्यटन पर बहुत बुरा प्रभाव पडे़गा। उन्होंने कहा कि अगर इस एजेंसी को बंद किया गया तो व्यापार संघ आंदोलन करने को बाध्य होगा।