प्रगति शील मंच ने मुंशी प्रेमचंद के रचना संसार पर गोष्ठी का आयोजन कर मनाई उनकी जयंती

Mussoorie: मसूरी प्रगतिशील मंच के तत्वाधान में यहां आरएन भार्गव इंटर कालेज के सभागार में महान साहित्यकार मुंशी प्रेम चंद की 142वीं जयंती मनाई गई व उनके साहित्य संसार पर चर्चा की गई व उनकी कहानी को नाटक के रूप में प्रस्तुति दी गई।

आरएन भार्गव इंटर कालेज में महान साहित्यकार मुंशी प्रेम चंद की जयंती मनाई गई। जिसका शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस मौके पर वक्ताओं ने मुंशी प्रेम चंद के साहित्य पर प्रकाश डाला व कहाकि उन्होंने साहित्य को समाज से जोडकर लिखा। उनकी कहानियों में आम जन जीवन की झलक मिलती है व कहानियों में जो संदेश रहता है वह दिल को छूने वाला होता है। जिससे प्रेरणा मिलती है। उनके उपन्यास में समाज का दर्शन होता है। वक्ताओं ने कहा कि मसूरी में साहित्यिक गतिविधियां लगभग ठप्प सी हो गई हैं जिसको लेकर यह गोष्ठी आयोजित की गई। क्यों कि साहित्य में सच होता है और अगर जीवन में साहित्य नहीं है तो जीवन का कोई अर्थ नहीं रह जाता।

इस मौके पर गोष्ठी के संचालक सतीश कुमार ने कहा कि मुंशी प्रेम चंद की जयंती 31जुलाई को होती है लेकिन स्कूल का अवकाश होने के कारण यह दो अगस्त को आयोजित की गई। उन्होंने कहाकि इस गोष्ठी का मुख्य उददेश्य मसूरी की साहित्यिक गतिविधियों को जगाना व युवा पीढ़ी को मुशी प्रेम चंद के बारे में बताने के साथ ही छात्रों को साहित्य के क्षेत्र में आगे बढाना है। उन्होंने कहा कि आज का युवा गलत दिशा में जा रहा है उसमें भटकाव है व मोबाइल या नशे की ओर झुंकाव है क्यो कि ऐसी साहित्यिक गतिविधियां नहीं हो रही। जिस पर इस गोष्ठी का आयोजन किया गया ताकि युवा पीढ़ी का झुकाव साहित्य की ओर हो सके। इस मौके पर विभिन्न विद्यालय के छात्र छात्राओं को बुलाया गया व उन्होंने भी मुशी प्रेम चंद के साहित्य के बारे में प्रकाश डाला।

कार्यक्रम में वर्तमान परिपेक्ष में मुंशी प्रेम चंद की कहानियों की प्रासंगिता पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता में प्रथम मसूरी गर्ल्स की नेहा, द्वितीय अमरीन सनातन धर्म, व तृतीय शिवानी कैंतुरा सनातन धर्म को पुरूस्कार दिए गये। कार्यक्रम का संचालन पंकज अग्रवाल ने किया। इस मौके पर आर एन भार्गव इंटर कालेज के प्रधानाचार्य अनुज तायल, सोनिया आनंद रावत, पत्रकार शूरवीर भंडारी, पंकज अग्रवाल, ममता राव, कविता नेगी, अवतार कुकरेजा, रूबीना अंजुम, आदि मौजूद रहे।