जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की गोली मारकर हत्या, सदमे में पूरी दुनिया

New Delhi: जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. आज सुबह भाषण देते वक्त उन्हें गोली मार दी गई थी. दोपहर में उनकी मौत की आधिकारिक पुष्टि की गई है. हमलावर ने अचानक से फायरिंग की थी. जापान में दमकल अधिकारी ने बताया कि गोली लगने के बाद शिंजो आबे को विमान से अस्पताल ले जाते वक्त उनकी सांस नहीं चल रही थी, हृदय गति रुक गयी थी.  बताया जा रहा है कि इस हमले में शिंजो आबे बुरी तरह जख्मी हो गए थे. उन पर यह हमला नारा शहर में हुआ था. उस वक्त वह भाषण दे रहे थे. गोली लगते ही आबे नीचे गिर गये. उनके शरीर से खून निकल रहा था. हमलावर के पकड़े जाने की बात भी कही जा रही है. हमलावर ने शिंजो आबे पर 2 गोली चलाई गई थी. पहली गोली चलने के बाद शिंजो आबे ने पीछे देखा था. तभी हमलावर ने उन पर दूसरी गोली चला दी, जो उनको लगी और वो जमीन पर गिर गए.

‘एनएचके’ ने घटना का एक फुटेज प्रसारित किया है, जिसमें 67 वर्षीय आबे को सड़क पर गिरते हुए देखा जा सकता है और कई सुरक्षाकर्मी उनकी ओर भागते हुए देखे जा सकते हैं. आबे जब जमीन पर गिरे तो उन्होंने अपने सीने पर हाथ रखा हुआ था तथा उनकी कमीज पर खून लगा हुआ देखा गया.

दुनिया के सबसे सुरक्षित देशों में से एक माने जाने वाले जापान में यह हमला हैरान करने वाला है. जापान में बंदूक नियंत्रण के सख्त कानून लागू हैं. उन्हें हार्ट फेलियर हो गया था. ‘हार्ट फेलियर’ शब्द का मतलब है कि दिल शरीर के बाकी अंगों तक पर्याप्त रूप से खून और आवश्यक ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं कर पाता है. जापान में अधिकारी कई बार इस शब्द का इस्तेमाल ऐसी स्थिति के बारे में बताने के लिए करते हैं, जिसमें पीड़ित जीवित नहीं रहता.

पूर्व प्रधानमंत्री को दो गोलियां मारी गईं

एक लोकल रिपोर्टर के हवाले से ये जानकारी में बताया गया है कि सुबह करीब 11:30 बजे शिंजो आबे पर ये हमला हुआ. हमले के बाद पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में भी लिया है.शिंजो की मौत की खबर ने पूरी दुनिया को हिला दिया है. आश्चर्यजनक बात ये है कि आरोपी गोली चलाने के बाद भागा नहीं बल्कि वहीं खड़ा रहा. हमलावर की उम्र 40 साल बताई जा रही है.

आरोपी से की जा रही पूछताछ 

सबसे सुरक्षित देशों से एक जापान में हुई इस घटना ने लोगों को चौंका दिया है. पुलिस भी इस घटना से सतर्क हो गई है. पूरे इलाके में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. बताया गया है कि जिस संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है, उससे पूछताछ की जा रही है. पश्चिमी जापान के नारा शहर में शिंजो आबे की छोटी सी सभा थी. जिसमें करीब 100 लोग शामिल थे. जब आबे भाषण देने आए तो पीछे से एक हमलावर ने गोली चला दी.

कौन थे शिंजो आबे

शिंजो आबे जापान के 57वें प्रधानमंत्री थे. वह 2012 में लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के अध्यक्ष भी रहे. आबे जापान के सबसे लंबे कार्यकाल वाले प्रधानमंत्री रहे.आबे 2006 से 2007 तक जापान के प्रधानमंत्री रह चुके थे. 2007 में उन्होंने बीमारी की वजह से पद से इस्तीफा दे दिया था, लेकिन साल 2012 में वह फिर जापान के पीएम बने और 2020 तक इस पद पर बने रहे. आबे कई सालों से अल्जाइमर कोलाइटिस से पीड़ित थे.

पीएम मोदी और शिंजो आबे का रिश्ता

पीएम मोदी और जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे का रिश्ता हमेशा से ही बेहद खास रहा है. दोनों की मुलाकात में हर बार एक गर्मजोशी देखने को मिलती है. पीएम शिंजो के वाराणसी दौरे की यादें आज भी ताजा हैं. जब शिंजो अपने दोस्त पीएम मोदी के साथ वाराणसी के रंग में नजर आए. दोनों ने गंगा आरती में हिस्सा लिया.

जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे कई बार भारत दौरे पर आ चुके हैं. यही नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ तो उन्होंने काशी में गंगा आरती में भी हिस्सा लिया था. आपको कुछ लम्हें याद दिलाते हैं, जिससे समझ सकते हैं कि शिंजो आबे के भारत साथ कितना अच्छे संबंध रहे हैं.

शिंजो आबे के दिल में बसता था हिंदुस्तान

शिंजो आबे अपने पीएम कार्यकाल में कई बार भारत आए. शिंजो आबे सबसे पहले 2006 में भारत दौरे पर आए, जहां उन्होंने भारतीय संसद को संबोधित किया. साल 2014 में दूसरा भारत दौरा किया.जहां वो गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि रहे. साल 2015 में तीसरा भारत दौरा किया
जहां दोनों देशों के बीच बुलेट ट्रेन समझौता हुआ. साल 2017 में शिंजो आबे चौथी बार भारत आए. साल 2021 में शिंजो आबे को पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. साल 2020 में शिंजो आबे ने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए पद छोड़ने की घोषणा की थी. जिसके बाद पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए उनकी तबीयत पर दुख जताया था और भारत-जापान के मजबूत संबंधों को लेकर आबे के प्रयासों की सराहना की थी.

पीएम मोदी और शिंजो आबे का याराना

पीएम मोदी का दिल आज उदास है, क्योंकि उनके अजीज दोस्त शिंजो आबे पर किसी ने जानलेवा हमला कर दिया, जिसमें उनकी मौत हो गई. पीएम मोदी और शिंजो आबे की दोस्ती किसी से छिपी नहीं है. हमले के तुरंत बाद पीएम मोदी ने इस हादसे पर दुख जताया. पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा था कि ‘मेरे प्रिय दोस्त आबे शिंजो पर हुए हमले से बेहद दुखी हूं. हमारी प्रार्थनाएं शिंजो के परिवार और जापान के लोगों के साथ हैं.

भारत और जापान के संबंध हमेशा से ही बेहतर रहे हैं. शिंजो आबे को भारत से बेहद लगाव था, इसका सबसे बड़ा उदाहरण उनकी भारत यात्रा थी. वो भारत घूमने के लिए काफी उत्साहित थे, यही वजह थी कि वो बनारस भी गए थे. उनके कार्यकाल में ही दोनों देशों के बीच बुलेट ट्रेन समझौता भी हुआ. अब शिंजो आबे की हत्या के बाद पूरी दुनिया सदमे में है.