मसूरी: मुख्यमंत्री ने भद्रराज मेले को राजकीय मेले के तहत अनुदान देने की घोषणा की

Mussoorie: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी मसूरी के प्राचीन श्री भद्रराज देवता मंदिर पहुंचे और प्रदेश की सुख समृद्धि की कामना की। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि भद्रराज मेले के लिए राजकीय मेले की अनुदान राशि प्रदान की जाएगी। साथ ही मंदिर जाने वाले मार्ग के सुधारीकरण व बिजली पानी की व्यवस्था करने की घोषणा की। इस मौके पर भद्रराज समिति ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का फूल माला पहनकर व शॉल और मोमेंटो भेंटकर स्वागत किया व मुख्यमंत्री को 11 सूत्रीय मांग पत्र सौंपा। इस मौके आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने लोक कलाकारों और स्थानीय लोगों के साथ नृत्य भी किया।

शनिवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने श्री भद्रराज देवता के मंदिर में पूजा कर प्रदेश की सुख एवं समृद्धि की कामना की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने भद्रराज मंदिर में आयोजित मेले में भी प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले मेले मिलन के केंद्र होते थे। उन्होंने कहा कि भद्राज देवता के मंदिर में श्रद्धालुओं की विशेष आस्था है। चार विधानसभाओ मसूरी, विकासनगर, धनोल्टी व सहस पुर से लगे इस मंदिर की अपनी विशेष पहचान है और उन्हें भी यहां आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि आज ज्ञान और विज्ञान की प्रगति से हर सुविधा आसानी से मिल जाती हैं, लेकिन हमें अपनी पुरानी संस्कृति और परम्पराओं को बचाए रखना होगा। उन्होंने कहा कि ऐसे स्थान हमारी संस्कृति, अध्यात्म एवं परम्पराओं को मजबूत करते हैं। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि भद्रराज मेले के लिए राजकीय मेले की अनुदान राशि प्रदान की जाएगी। दुधली- डिगोली मोटर मार्ग के डामरीकरण के लिए इसी वित्तीय वर्ष में धनराशि स्वीकृति की जाएगी। भद्रराज मंदिर में पेयजल एवं विद्युत की व्यवस्थाओं को प्राथमिकता में रखा जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा की इस क्षेत्र की विभिन्न मांगों का परीक्षण कर उचित समाधान किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड आध्यात्म और पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण राज्य है। श्री केदारनाथ में अनेक पुनर्निर्माण के कार्य हुए है। चारधाम यात्रा के लिए श्रद्धालुओं की सुविधाओं के लिए हर संभव सुविधा प्रदान करने के प्रयास किए जा रहे हैं। श्रद्धालुओं से भी अपील की जा रही है कि वह जब तक पंजीकरण ना हो तब तक चारधाम यात्रा पर न जाएं। उन्होंने कहा कि चार धाम यात्रा के लिए उचित स्वास्थ्य के बाद ही कार्यक्रम तय करें। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि चारधाम यात्रा को और सुगम बनाया जाए इसके लिए अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है कि यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की परेशानी ना हो साथ ही स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर भी सरकार लगातार निगरानी कर रही है। चंपावत उपचुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि वे उपचुनाव को लेकर तैयार हैं और भारी बहुमत से चंपावत की जनता उन्हें विजयी बनाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने के लिए राज्य सरकार कृत संकल्पित है। राज्य की विकास यात्रा को सबके सहयोग से आगे बढ़ाया जाएगा। राज्य सरकार सभी वर्गों के हितों को ध्यान में रखते हुए कार्य कर रही है। कोरोना काल में हर वर्ग को राहत देने का प्रयास राज्य सरकार द्वारा किया गया। 184000 अंत्योदय कार्ड धारकों को साल में तीन सिलेंडर मुफ्त दिए जायेंगे।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी, मसूरी के नगर पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष मसूरी मनमोहन सिंह मल्ल, ओपी उनियाल, सभासद जसवीर कौर, गीता कुमाई, भद्रराज मंदिर समिति के अध्यक्ष राजेश नौटियाल, उपाध्यक्ष बलवंत सिंह तोमर, सचिव शिवराज सिंह तोमर, भाजपा मसूरी मंडल के अध्यक्ष मोहन पेटवाल, राजेंद्र रावत, मीरा सकलानी, नर्मदा नेगी, राकेश रावत सहित क्षेत्र के  सामाजिक व राजनैतिक जनप्रतिनिधि व बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे।

भद्राज देवता पशु धन की रक्षा के देवता के रूप में माने जाते हैं तथा जब भी कोई मवेशी पहली बार दूध देता है, तो उसे मंदिर में चढाया जाता है। वहीं पहली बार ही कोई मुख्यमंत्री भद्राज देवता गया। यहां मसूरी के साथ ही देहरादून के भाउवाला, सेलाकुई विकासनगर, जौनसार व जौनपुर के लोग बड़ी श्रद्धा से आते हैं।