Uncategorizedउत्तराखंडमसूरीराज्य

गांधी व शास्त्री जयंती: अलग अलग जगहों पर हुए कार्यक्रम आयोजित, दोनों महापुरुषों को किया याद

Mussoorie: आज देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 152वीं जयंती के साथ-साथ लाल बहादुर शास्त्री की जयंती भी मना रहा है। पर्यटन नगरी में भी गांधी व शास्त्री जंयती धूमधाम से मनाई गई। इस मौके पर स्कूलों में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गये। इस मौके पर गांधी निवास सोसायटी में कार्यक्रम आयोजित किया गया, जहाँ कबीना मंत्री गणेश जोशी ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया। वहीं नगर पालिका एवं गांधी चौक पर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने ध्वजारोहण किया व गांधी तथा शास्त्री को याद किया।

गाँधी व शास्त्री जयंती के मौके पर कबीना मंत्री गणेश जोशी ने राष्ट्रिय ध्वज फहराने के बाद राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को श्रंद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्होंने जो आयाम स्थापित किए, उनको पूरा करने का संकल्प लेना चाहिए। देश में जो विषमताएं हैं,उन्हें समाप्त करने का संकल्प लेने के साथ ही उनके बताये मार्ग पर चलना चाहिए। जोशी ने कहा कि देश वासियों को महापुरूषों के जीवन आदर्शो को अपने जीवन में उतारना चाहिए। तभी इस दिन की सार्थकता सिद्ध होगी।

वहीं सरस्वती शिशु विद्या मन्दिर में कार्यक्रम का शुभारंभ कबीना मंत्री गणेश जोशी एवं प्रबंध समिति के पदाधिकारियों ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये गये, जिसमें छात्र छात्राओं ने देश भक्ति के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की मनमोहक प्रस्तुति दी। वहीं गांधी व शास्त्री के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला। प्रधानाचार्य मनोज रयाल ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम में गांधी निवास सोसायटी के अध्यक्ष मदन मोहन शर्मा एवं मंत्री शैलेंद्र कर्णवाल ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस मोके पर चंद्रप्रकाश गोदियाल, मनमोहन कर्णवाल, भाजपा मंडल अध्यक्ष मोहन पेटवाल, सभासद अरविंद सेमवाल, धर्मपाल पंवार, सहित अभिभावक मौजूद रहे।

वहीं गांधी व शास्त्री जयंती पर कांग्रेस भवन में युवा कांग्रेस मसूरी विधानसभा अध्यक्ष वसीम खान एवं छावनी परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष महेश चंद ने गांधी व शास्त्री के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर दोनों महापुरुषों को याद किया।

पालिकाध्यक्ष ने गाँधी व शास्त्री को किया नमन 

वहीं दूसरी ओर पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने नगर पालिका एवं गांधी चौक पर ध्वजारोहण किया व गांधी तथा शास्त्री को याद किया। इस मौके पर  पालिकाध्यक्ष ने कहा कि  गांधी जी के जन्मदिन को गांधी जयंती के साथ ही अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। अंग्रेजी हुकूमत से भारत को आजाद कराने की लड़ाई का उन्होंने नेतृत्व किया था। अहिंसक विरोध का उनका सिखाया हुआ सबक आज भी पूरी दुनिया में सम्मान के साथ याद किया जाता है। वहीं लाल बहादुर शास्त्री ने देश को आत्म निर्भर बनाने का मंत्र दिया। वे एक क्रांतिकारी व्यक्ति थे और आजादी के बाद शास्त्री जी की साफ-सुथरी छवि ने उन्हे नेहरू जी के मृत्यु के बाद देश का दूसरा प्रधानमंत्री बनाया और उनके सफल मार्गदर्शन में देश काफी आगे बढ़ा।

Tags
Close