उत्तराखंडदेहरादूनमसूरीराज्य

पीएम ने देश की पांच ग्राम सभाओं के साथ किया वर्चुअल संवाद, क्यारकुली-भट्टा ग्रामसभा को सराहा

Mussoorie: गांधी जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने जल जीवन मिशन को प्रोत्साहित करने के लिए देशभर की पांच ग्राम सभाओं के साथ वर्चुअल संवाद किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्राम पंचायतों से संवाद के बाद जल-जीवन मिशन के मोबाइल ऐप और राष्ट्रीय जल-जीवन कोष को भी लॉन्च किया। इस दौरान उन्होंने पानी समितियों से भी वर्चुअली संवाद किया। इस कार्यक्रम के लिए देश की पांच ग्राम सभाओं में मसूरी के समीपवर्ती ग्रामसभा क्यारकुली भटटा को भी चयनित किया गया था। प्रधानमंत्री ने क्यारकुली भट्टा की प्रधान कौशल्या रावत से भी संवाद किया व उन्हें जल जीवन मिशन योजना की सफलता व शत प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन कराने पर बधाई दी। वहीं ग्राम पंचायतों से संवाद के पश्चात पीएम ने कहा कि जल संरक्षण हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। इसके लिए हमें युद्ध स्तर पर प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि पानी को हमें प्रसाद की तरह इस्तेमाल करना चाहिए। पानी को लेकर हमें आदतें बदलनी होंगी। पानी बर्बाद करने से बचना होगा। साथ ही किसान भी कम पानी वाली फसलों पर ज्यादा जोर दें।


कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री ने ग्रामसभा क्यारकुली भट्टा की प्रधान कौशल्या रावत से करीब पांच मिनट तक संवाद किया व जल जीवन मिशन सहित कोरोना वैक्सीनेशन व होम स्टे आदि मुद्दों पर ग्राम प्रधान से सवाल किए। जिस पर ग्राम प्रधान कौशल्या रावत ने कहा कि यह ग्राम सभा क्यारकुली का सौभाग्य है व उत्तराखंड के लिए गर्व की बात है, कि प्रधानमन्त्री के वर्चुअल संवाद कार्यक्रम के लिए हमारी ग्रामसभा को चुना गया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से संवाद में उन्होंने जल जीवन मिशन व कोरोना कैक्सीनेशन की जानकारी दी व बताया है कि उनके गांव में जल जीवन मिशन के तहत पूरे गांव को पानी दिया गया है। हर घर में नल व जल पर्याप्त मात्रा में है। वहीं कहा कि गांव में कोरोना वैक्सीनेशन शत प्रतिशत दोनों डोज पूरी हो चुकी है। इसके साथ ही जानकारी दी है कि पानी की उपलब्धता होने पर गांव में होम स्टे खुल रहे हैं और अभी 35 होम स्टे खुल चुके हैं, जिससे पलायन को रोकने में मदद मिली है। प्रधान ने पीएम को अवगत कराया है कि पानी के स्रोतों का संरक्षण करने के लिए 22 हजार पेड़ लगाये हैं।

प्रधानमंत्री ने ग्राम प्रधान से कहा कि वह गांव में क्रांति लेकर आई हैं। जहां पहले गांव से लोग पलायन कर रहे थे, वहां अब लोग अपने गांव में लौटने लगे हैं। यहां तक कि बाहरी प्रदेशों के लोग भी यहां पर्यटन के लिए आ रहे, जिससे स्वरोजगार की बड़ी राह खुली है व पर्यटन गांव की ताकत बन गया है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने उन्हें बधाई दी व अन्य गांवों को प्रेरणा लेने के लिए कहा है। प्रधानमंत्री ने शत प्रतिशत वैक्सीनेशन पर बधाई दी व कहा कि सरकार की योजना को पूरे लगन से की जाय तो उसके परिणाम सकारात्मक निकलते हैं। उन्होंने वृक्षारोपण करने पर भी ग्राम प्रधान कौशल्या रावत को बधाई दी। इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्री धामी की पीठ ठोकी। कहा कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जवान हैं और मेहतनी हैं।

इस मौके पर मौजूद कबीना मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि उत्तराखंड के लिए गौरव की बात है कि देश के छह लाख गांव में से देश के पांच गावों का चयन किया गया जिसमें उनकी विधानसभा की क्यारकुली भट्टा ग्रामसभा भी है। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के हर घर जल हर घर नल योजना पूरी सफलता के साथ चल रही है।

कार्यक्रम मे मौजूद सचिव पेयजल नितीश झा ने कहा कि जिस तरह से क्यारकुली गांव की महिलाओं ने जन भागीदारी से हर घर जल पहुंचाने का कार्य जल जीवन मिशन के तहत किया सराहनीय है। वहीं अपेक्षा है कि प्रदेश के अन्य गांव भी इसी तरह जनसहभागिता से घर घर जल पहुंचाने का कार्य करें। इसमें मीडिया भी अहम भूमिका निभाये।

जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने ग्राम प्रधान कौशल्या रावत से संवाद किया व बताया कि जल जीवन मिशन से पहले गांव के लोग पानी ढोकर लाते थे और जल जीवन मिशन योजना लागू होने के बाद यहां हर घर में पानी दिया गया है। साथ ही पानी के स्रोतों का संरक्षण भी किया गया है, जिससे अब आसपास के करीब आठ दस गांवों को भी पानी दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पानी आने से यहां पर्यटन को बढावा मिला है तथा होम स्टे खोले जा रहे हैं।

इस मौके पर बड़ी संख्या ग्रामीणों सहित निदेशक जल जीवन मिशन नितिन भदौरिया, जीएम जल संस्थान, एसडीएम मनीष कुमार, मुख्य अभियंता नमित रमोला, ईई एसके पैन्यूली, सहायक अभियंता टीएस रावत, अभय भंडारी, सामाजिक कार्यकर्ता राकेश रावत आदि मौजूद रहे।

Tags
Close