अर्थव्यवस्थादेश

LAC झडप: CAIT ऐसे पहुंचाएगा चीन को आर्थिक चोट, ‘भारतीय सामान- हमारा अभिमान’ अभियान शुरू

New Delhi: चीन और भारत के बीच तनाव बरकरार है. सोमवार रात लद्दाख मे भारतीय सैनिको पर किए गए हमले की देशभर के व्यापारियों ने कड़ी आलोचना की है. इसके साथ ही चीन को सबक सिखाने की बात कही. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने चीन के सामानों का बहिष्कार करने का फैसला लिया है. कैट ने चीन को आर्थिक चोट पहुंचाने की पूरी तैयारी कर ली है. कैट ने इसे लेकर ‘भारतीय सामान- हमारा अभिमान’ अभियान शुरू किया है.

मंगलवार को कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने 500 से अधिक चीजों की लिस्ट तैयार की है. जो चीन से संबंधित है. इससे पहले 10 जून को संगठन के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने दिल्ली से एक वीडियो कांफ्रेस में कहा कि इस अभियान के प्रथम चरण में कैट ने ऐसी 3000 वस्तुओं की सूची बनाई है जो वर्तमान में चीन से आयात होती हैं और जिनका उत्पादन भारत में भी एक लम्बे समय से होता आया है.

इन चीनी उत्पादों के बहिष्कार कर कैट ने दिसम्बर 2021 तक चीनी आयात में करीब एक लाख करोड़ रुपये की कमी लाने का लक्ष्य रखा है. कैट की इस सूची में रोजमर्रा में काम आने वाली वस्तुओं को रखा गया है. खिलौने, बिल्डर हार्डवेयर, फुटवियर, गारमेंट, किचन सामान समेत कई चीजें शामिल है.

कैट अपने इस अभियान के अंतर्गत देश भर में व्यापारियों एवं लोगों को जागरूक करेगा की चीनी वस्तुओं की बजाय भारतीय उत्पाद ही बेचे और ख़रीदे जाएं. कैट ने पहले चरण में चीन से आयात होने वाले तैयार माल की वस्तुओं का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है. चीन से भारत का सालाना आयात करीब 70 अरब डालर (करीब पांच हजार अरब रुपये)का है.

उन्होंने यह भी कहा कि बहिष्कार में हर प्रकार की चीनी एप्लिकेशन भी शामिल हैं, जिन वस्तुओं में टेक्नॉलजी महत्व है फिलहाल उनको बहिष्कार में शामिल तब तक नहीं किया गया है, जब तक इस प्रकार की टेक्नोलॉजी का विकल्प भारत में विकसित नहीं हो जाता. हालांकि कैट इस मामले को केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के सामने रखेगा. इसके साथ ही
सरकार देश के लघु उद्योग, स्टार्टअप और अन्य उद्यमियों को हर प्रकार की सहायता देने की अपील भी करेगा.

Tags
Close