उत्तराखंडचमोलीराज्य

डीएम ने जिले में संचालित मनरेगा कार्यो को शीर्ष प्राथमिकता से पूरा करने के दिए निर्देश

रिपोर्ट: केशर सिंह नेगी, चमोली।

chamoli: जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने मंगलवार को विकास भवन सभागार में समस्त खण्ड विकास अधिकारी एवं उप कार्यक्रम अधिकारियों की बैठक लेते हुए जिले में संचालित मनरेगा कार्यो की वित्तीय एवं भौतिक प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने लंबित कार्यो को शीर्ष प्राथमिकता पर पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। पिछले वित्तीय वर्ष में मनरेगा के तहत अच्छा कार्य कर प्रदेश में पहला स्थान हासिल करने पर जिलाधिकारी ने जनपद की पूरी मनरेगा टीम को बधाई दी और आगे इससे भी अच्छा कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया।

जिलाधिकारी ने कहा कि मनरेगा के तहत किए जाने वाले कार्यो में ग्राम पंचायत स्तर पर ही श्रम अंश 60 प्रतिशत एवं मैटिरियल अंश 40 प्रतिशत सुनिश्चित किया जाए और शुरू से ही इसका विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि मनरेगा के तहत जिन कार्यो के आंगणन स्वीकृत है उनको आज ही उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें और नए कार्यो के आंगणन नई दरें लागू होने पर ही तैयार किए जाए। उन्होंने राज्य वित्त की धनराशि से मनरेगा कन्वर्जेंस करते हुए प्रत्येक ग्राम पंचायत में कार्य कराने के निर्देश भी दिए। कहा कि इससे अधिक धनराशि वाले कार्यो को पूरा कराने में धन की कमी नही होगी। इस दौरान बताया गया कि जिले की 610 ग्राम पंचायतों में से 514 में मनरेगा के तहत कार्य संचालित है। जिस पर जिलाधिकारी ने अवशेष 96 ग्राम पंचायतों में भी तीन दिनों के भीतर मनरेगा कार्य शुरू कराने के निर्देश सभी बीडीओ को दिए। जिले में आंगनबाडी भवन के कुछ निर्माण कार्य लंबित पाए जाने पर जिलाधिकारी ने शीर्ष प्राथमिकता पर अधूरे कार्यो पूरा कराने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना महामारी में बडी संख्या में प्रवासी गांव लौटे है। उनको होम क्वारेंटीन किया गया है। कहा कि जिन स्कूलों में ठहरने, शौचायल एवं अन्य सुरक्षा व्यवस्था नही है ऐसे स्कूलों में किसी भी दशा में प्रवासियों को न ठहराया जाए। प्रवासियों को उनके घरों में ही क्वारेंटीन रहने दे और क्वारेंटीन पूरा करने पर डिस्चार्ज करना भी सुनिश्चित करें। उन्होंने सभी खण्ड विकास अधिकारियों को अपने क्षेत्र में अभियान चलाकर गांव लौटे प्रत्येक प्रवासी से मनरेगा के तहत कार्य करने हेतु जानकारी जुटाने के निर्देश दिए। कहा कि जो भी प्रवासी मनरेगा में कार्य करने के इच्छुक है उनका शीघ्र जाॅबकार्ड बनाया जाए। इस दौरान मनरेगा के तहत सृजित मानव दिवस, लंबित भुगतान, जल संचय, वृक्षारोपण आदि कार्यो की गहनता से समीक्षा की गई और आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे ने अवगत कराया कि जिले में मनरेगा के तहत अप्रैल 2020 से 276 नए कार्य शुरू किए गए है तथा 957 नए पंजीकरण किए गए है। इनमें से जिन 474 लोगों के पास जाबकार्ड नही थे उनके जाबकार्ड बनाए जा चुके है। पिछले वित्तीय वर्ष के लंबित कार्यो को प्राथमिकता से पूरा कराया जा रहा है। जिले में 7 ग्रामीण हाट तैयार किए गए है। उत्पादन को बढाने के लिए पूरे जिले को 72 क्लस्टर में बांटा गया है। प्रत्येक क्लस्टर में 10 से 12 ग्राम पंचायतों को शामिल किया गया है। इसके अलावा जनपद में 15 ग्रोथ सेंटर भी स्थापित किए जा चुके है। वित्तीय वर्ष 2019-20 में जनपद चमोली में 72677 जाॅब कार्ड धारक परिवारों के सापेक्ष 58949 परिवारों को रोजगार दिया गया। जो कि सम्मपूर्ण प्रदेश में सर्वाधिक 81.11 प्रतिशत है। इसके साथ ही जनपद में 23.28 लाख मानव दिवस सृजन किए जाने के लक्ष्य के सापेक्ष जनपद में श्रमिकों को उनकी मांग पर 25.96 लाख मानव दिवस रोजगार सृजन कर 111.47 प्रतिशत पूर्ति के साथ प्रदेश में रोजगार सृजन करने के परिपेक्ष्य में पहला स्थान हासिल किया है। इस अवसर पर डीडीओ एसके राॅय सहित समस्त खण्ड विकास अधिकारी एवं उप कार्यक्रम अधिकारी उपस्थित थे।

Tags
Close